दिमाग के काम करने के तरीके

दिमाग के काम करने के तरीके



दिमाग इंसान के शरीर का सबसे उपयोगी अंग है और यह सबसे महत्वपूर्ण भी है | हमारा हर फैसला हमारे दिमाग से होता है दुनिया के सारे सुपरकम्प्युटर हमारे दिमाग के सामने खिलौनों की तरह है | ये इतना तेज हे की पल भर में आपको विश्व के किसी भी कोने में ले जा सकता हे | इसकी स्मरण शक्ति इतनी है की हमे हमारी हर एक बात याद रहती हे और वो फिर चाहे कितनी भी पुरानी हो | मानव दिमाग इतना तेज चल सकता है जितना कोई कंप्यूटर नहीं चल सकता है | हमारे शरीर की सभी क्रियाए उसी से संचालित होती है

दिमाग का अस्तित्व :- पृथ्वी पर बहुत सारे जीव-जंतु है बहुत सारी प्रजातियां है | परन्तु मानव उनमे से सबसे अलग है और हम इंसानो को बाकि सभी जीव-जंतुओं से जो चीज अलग बनती है वो है हमारा दिमाग जो शुरू से ही रहस्यमय रहा है और हमेशा रहेगा| किसी भी प्रयोगशाला में दुनिया के कोई वैज्ञानिक हमारे दिमाग को नहीं समझ सकते है | बहुत बार बड़े- बड़े वैज्ञानिक ने कोशिश भी करी है, मानव दिमाग बनाने की परन्तु आज तक कोई सफल नहीं हो पाया है |

हमारे दिमाग में कई सारी शक्तिया होती है | हमारा दिमाग हमारे शरीर की कई सारी बीमारीयो को खुद ही ठीक कर लेता है | एक इंसान का स्वस्थ दिमाग दुनिया की सभी पुस्तकालय की सभी पुस्तकों को याद कर सकता है | कभी कभी हमें कुछ जगह या कुछ चीजों को देख कर ऐसा लगता है जैसे उन्हें कही देखा हो परन्तु आपको याद नहीं होता है ; यह सब दिमाग की शक्ति होती है जो अतीत और पिछले जनम को भी याद रखती है यह सब बाते हमारे दिमाग में सेव रहती है |

दिमाग की कार्य-प्रणाली :- जिस तरह कोई भी गाड़ी बिना इंजन के नहीं चल सकती, ठीक उसी तरह हमारा शरीर बिना दिमाग के नहीं चल सकता है | और ठीक उसी तरह इंजन को चलाने के लिए तेल की जरूरत होती है और हमारे दिमाग को चलने के लिए विचारो की जरूरत होती है | यह होते तो अदृश्य है परन्तु हमारे दिमाग के लिए बहुत जरुरी है | परन्तु अगर हम पेट्रोल गाड़ी में केरोसिन डालकर चलाएंगे तो वह चल पाएगी क्या ?

इसी तरह हमारे दिमाग में 2 तरह का तेल होता है पहला सकारात्मक जैसे आत्मविश्वास, शांति, उत्साह, ख़ुशी और दूसरा नकारात्मक जैसे क्रोध, हिंसा, निराशा, अहंकार | ज्यादा से ज्यादा आप अपने दिमाग में कोन सा तेल डालते हो सकारात्मक या नकारात्मक | मानव द्वारा रोबोट बनाए जाते है, दाबा भी किया जाता है वह मानव दिमाग से तेज है शक्तिशाली है परन्तु उनमे भावनाएँ नहीं होती है उनमे जितना डाटा डाला जाता है वह उसी तरह कार्य करता है और अंत में रोबोट IC चिप से चलता है जो कही कही मानव दिमाग की ही उपज है | हमारी बुद्धि से ही हम अच्छा या बुरा सब समझ पाते है हम किसी को परख पते है कौन इंसान कैसा है |

दिमाग कैसे काम करता है :- दिमाग का अस्तित्व होना बहुत जरुरी है इसी से हम बचपन से बुढ़ापे तक अपना हर कार्य कर पाते है हर परेशानी में लड़ पाते है हर ख़ुशी में मुस्कुरा पाते है दुःख में दुखी हो पाते है | दिमाग इंसान के सारे अंगो को नियंत्रित करता है जैसे आंख नाक हाथ पैर आदि सब अंगो को नियंत्रित करता है अगर हमारे शरीर को कुछ भी करना हे तो उसके लिए दिमाग के द्वारा ही वो काम करने की अनुमति दी जाती है उसके बाद ही शरीर वो कार्य करता हे हमारा दिमाग कई भागो से मिलकर बना होता है | हम कही जाते है और एक दम से हमें कांटा चुभ जाता है तो ऐसा तो नहीं होता है की अहसास हमें बाद में होता है दिमाग तुरंत पैर को बता देता है पैर वहा से तुरंत पैर हटा लेता है पल भर में हमें दिमाग आदेश दे देता है |

दिमाग को आराम दे :- लगातार किसी बात को बार बार सोचने से हमें कई परेशानियों का सामना करना पढ़ सकता है इसलिए कोशिश करे अपने दिमाग को शांत रखे प्रतिदिन 2 से 3 घंटे | इससे आपको फायदे भी होंगे प्रतिदिन सुबह जल्दी उठ कर घूमे योग करे व्यायाम करे ,पूजा पाठ करे जो रूचि हो वह काम करे इससे आपका दिमाग तेजी से चलेगा | जैसे आप अपनी गाड़ी की हर महीने सर्विसिंग कराते है ठीक उसी तरह आपको अपने दिमाग की सर्विसिंग करना है ताकि वह नए जैसा चले पुरानी परेशानियों को पीछे छोड़ कर |


अपनी राय पोस्ट करें

न्यूनतम 500/500 शब्दों