जीवन का उद्देश्य क्या है

जीवन का उद्देश्य क्या है

  

हम देखते हैं की अलग-अलग सभ्यताएं और संस्कृतियां का मानना हैं की मनुष्य मिट्टी से बना है और मरने के बाद वो फिर से मिट्टी में मिल जाता है।

जीवन का उद्देश्य क्या है ? ऐसे सवाल तभी मन में आते है जब जिंदगी किसी तरह से बोझ लगने लगती है | जब हम प्रसन्न, आनंदित और खुशहाल अवस्था मे होते तब हमारे दिमाग में ये सब सवाल नहीं आते है | हम कभी-कभी सोचने लगते है की हमारी इस जिंदगी का वाकई कोई मकसद है? अगर आपकी जिंदगी का अनुभव अच्छा नहीं है, उसकी कोई अहमियत नहीं लग रही है इसलिए आप उसके मायने ढूंढ रहे है |अगर बैठकर साँस लेना काफी होता तो शायद ये ख्याल दिमाग में नहीं आता कि जीवन का उद्देश्य क्या है ? इसलिए, हम सोचे कि इस जीवन को उसकी परम दिशा तक कैसे ले जाया जा सकता है | मन में रोजमर्रा की चुनौतियों और दुनिया की समस्याओं से निपटने के लिए काफी रचनात्मक होने की जरूरत है।

जीवन क्या है :-

शायद इतनी बातो में हमें अभी तक यह समझ ही नहीं आया की जीवन क्या है फ़िलहाल जो हमारे पास है वह तन और मन है | इनको जितना हो सके आनंद से रखना चाहिए |हमारे हिसाब से जो हम जी रहे है वह जीवन है परन्तु सही मायनो में हमें नहीं पता जीवन क्या है ?

हमारे जन्म से मत्यु तक का सफर जीवन है परन्तु ऐसा मन गया है कि इंसान की मृत्यु के बाद भी उसका जीवन चलता रहता है क्युकी यह शरीर तो किराए का घर है एक दिन इसे त्यागना ही है हमारी आत्मा को परमात्मा से मिलाना वास्तव में जीवन है | और यही मानव जीवन का उद्देश्य होना चाहिए |

मानव रूप में जन्मे हो तो आपके पास मौका हैं परम आनंद के अवस्था में रह कर, एक इंसान के रूप में जीवन को जीने का और अपना अगला जन्म इसी योनि में लेने का और उसे अवसर मिलता है एक यात्रा के माध्यम से परमात्मा तक पहुंचने का| वास्तव में जीवन एक रहस्यमयी सफर का नाम है जिसे हमें अनिश्चित समय में पूरा करना है जीवन की बढती हुई गाड़ी रोज हमे नई सीख दे जाती है क्या सही है, क्या गलत है, यहाँ कोई पक्का फार्मूला नहीं है|

जीवन एक एहसास हैं आप जो पूरे जीवन में महसूस करते हैं वही जीवन हैं“|

जीवन का सफर :-

हमें खुशियाँ छोटे-छोटे कामो को करने से मिलती हैं, खुशी दूसरो को खुश करने में मिलती हैं | हमारे जीवन का हर कार्य अपने और अपने से सम्बंधित लोगो को ख़ुश करना ही होता हैं | यदि जीवन के सफर को परिभाषित करे तो ख़ुश रहना, ख़ुशी देना और ख़ुशी लेना ही जीवन हैं“|

हमारे पास खुश होने के लिए पर्याप्त समय नहीं है। लेकिन इतने ही समय को खुश रह कर पर्याप्त बनाना मुमकिन है | जीवन का हर पल आपको कीमती लगना चाहिए क्योंकि एक मात्र चीज जो इस दुनिया में तय है वो है मृत्यु | स्वयं के लिए आपको अपने समय का सदुपयोग और महत् दोनों जानना आवश्यक है इसलिए खुद से प्यार करना और खुद का महत्व समझना बहुत आवश्यक है |

हम हर जीत में, हार में, सफलता में असफलता में इतना उलझ गए है की ज़िन्दगी जीना ही भूल गए है | ज़िन्दगी में अगर कुछ सबसे जरुरी है तो वो है खुद की जिंदगी|

जीवन की बुनियादी बातें :-

एक व्यक्ति को अपने जीवन में चार चीजों की आवश्यकता ख़ुशहाल जीवन जीने के लिए होती हैं |

1.) मान और सम्मान

समाज और अपने प्रियजनों से सम्मान पाना सबकी ख्वाहिश होती हैं और अधिकतर लोगो को मिलता भी हैं यदि आप का व्यवहार और आचरण अच्छा हैं तो निश्चित रूप से आपको समाज में सम्मान मिलेगा |

2.) स्वास्थ

यदि आपको दुनिया की सारी खुशियां दे दी जाय और आप स्वस्थ नही हैं तो सब बेकार हैं इसलिए स्वस्थ होना बहुत जरूरी हैं | यदि आप कभी बीमार पड़े हो तो आप महसूस कर सकते हैं कि स्वस्थ रहना कितना जरूरी हैं |

3.) शिक्षा

आपको उचित शिक्षा जरूर लेनी चाहिए जिससे आपकी जीविका चले और आप एक शिक्षित, समझदार व्यक्ति की तरह उच्च जीवन जिए |

4.) धन

धन तो बहुत अधिक और ही बहुत कम हो, इतना होना चाहिए की आपकी आवश्यकता पूरी हो जाय |

जीवन को सुखमय कैसे बनाये :-

जीवन का कोई ऐसा जादुई मन्त्र नही हैं कि आपको ख़ुश कर दे | यदि आप के जीवन में ख़ुशी का पल आएगा तो आप अपने आप ख़ुश हो जायेंगे और जब दुःख होगा तो दुखी हो जायेंगे यह सबके जीवन में होता हैं |

लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सही दिनचर्या बनाये | सफलता और असफलता आपकी जिम्मेदारी हैं, सफलता का श्रेय खुद को और असफलता का श्रेय दूसरो को दे | असफ़लता हमेशा अपनी गलतियों के कारण मिलती हैं और सफलता दूसरो के सहयोग से मिलता हैं |


अपनी राय पोस्ट करें

न्यूनतम 500/500 शब्दों