7 बाते स्वयं का विकास करने के लिए

7 बाते स्वयं का विकास करने के लिए



स्वयं का विकास जीवन का लक्ष्य होना चाहिए, हमें जिंदगी के हर क्षण में अपने आप को हर परेशानी के लिए तैयार रहना चाहिए, कुछ चीजे कुदरत हमें खुद सीखा देती है और कुछ परिस्तिथि सीखा देती है | कुछ बातो पर विचार करते है जो हमें मदद करेगी स्वयं को मजबूत बनाने में |

लक्ष्य बनाना :-

याद रखिये आपके पास एक लम्बा दिन जरुर हो सकता है लेकिन एक लम्बा जीवन नही | आपको निश्चित घंटो में ही अपने काम को बाटना होता है? और तभी आप उसे समय रहते पूरा कर पाओगे !

बिना किसी शक के अपने लक्ष्य को निर्धारित करना ही आपके दिन का सबसे महत्वपूर्ण काम होना चाहिये |

ऐसा करने से रोज़ आपको प्रेरणा मिलती रहेंगी और धीरे-धीरे आप बड़े-बड़े लक्ष को प्राप्त करने में ध्यान लगा सकोंगे | इसीलिए अपने कार्यकाल की शुरुवात करने से पहले अपने आप से पूछिये की आज आपको क्या-क्या हासिल करना है | मै वादा करता हु की आप जो निर्धारित करोंगे, दिन के अंत में वही पाओगे |

गलती मानना :-

आपको अपनी गलतियों के प्रति सहज होना चाहिये | आसानी से उसे अपनाये और उनमे सुधार करे | यदि आप अपनी गलतियों से कुछ सीखते हो तो कोई भी गलती बेकार नही होती |

यदि आप ऐसा करोगे तो कोई भी गलती आपसे बार-बार नही होंगी | और आपके दिमाग में हमेशा नए-नए उपाय आते जायेंगे | इसीलिए अपने दिन को खत्म करने से पहले ही अपने अगले दिन की तयारी कर ले | भूतकाल का विचार करे और सोचे की आपने अपनी गलतियों से क्या-क्या सिखा है | क्योकि आपकी यही सोच आपको आगे बढ़ने में सहायता करेंगी |

सकारात्मक रहना :-

हमेशा सोच हमारी सकारात्मक होनी चाहिए इससे हमें कई फायदे है, यदि हमें कोई कार्य करना है तो उसके सारे अच्छे फायदों की लिस्ट बनाए उससे होने वाले परिणाम के बारे में सकारात्मक तरीके से सोचे अगर किसी भी तरीके से हमने जैसा सोचा था वैसा नहीं हुआ तो आपको नुकसान कुछ नहीं होगा आपका अनुभव ही बढ़ेगा जो गलती हुई है उससे सीखते हुए हम फिर से कोशिश कर सकते है बिना गलती को दोहराए |

सीखते रहना :-

कई बार आप जो चाहते हो उसे आसानी से हासिल कर ही लेते हो | कभी-कभी एक ख़राब दिन गुजारे बिना ही आप सफल हो जाते हो | सिखने की कोई उम्र नहीं होती है अगर जिंदगी में आगे बढ़ना है तो हर इंसान से सिखने की कोशिश करे छोटा सा बच्चा भी आपको अनजाने में बहुत कुछ सीखा देता है, स्वयं का विकास अनुभव से बढ़ता जाता है सीखते-सीखते हमेशा कुछ चीजों का अनुभव बढ़ जाएगा और इसी तरह आपका विकास होता जाएगा |

धन्यवाद करे :-

कभी भी जिंदगी में धन्यवाद कहना भूले उन लोगो से जिन लोगो ने आपकी मदद की, काम छोटा हो या बड़ा जिसने करके दिए है वह आपके धन्यवाद का उम्मीदवार है। किसी को खुलकर 'धन्यवाद या थैंक यू' (thank you) बोलने से सिर्फ आप एक खुशमिज़ाज इंसान बन सकते हैं, बल्कि ये आपको और भी ज्यादा हैल्दी और ज्यादा एनर्जेटिक (energetic) इंसान भी बना सकता है। तो अगली बार जब भी कोई आपके लिए कुछ करेभले वो काम छोटा या बड़ा होउन्हें धन्यवाद कहना भूलें।

सभी का सम्मान :-

हमें हमेशा बड़े बुजुर्ग के साथ-साथ छोटे और सभी व्यक्ति का सम्मान करना चाहिए, हम सभी एक ही परमात्मा के अंश है सभी एक दूसरे से जुड़े है, सभी को भगवान ने अलग-अलग रूप रंग व्यक्तित्व व्यव्हार सीरत दी है परन्तु सभी को कुछ खास गुणो से भी नबाजा है इसलिए सभी परमात्मा के लिए समान है इसलिए हमें किसी को खुद से कमजोर या काम नहीं समझना चाहिए यही हमारा व्यक्तित्व का प्रदर्शन करता है इसी व्यक्तित्व के साथ हम हमारा विकास कर सकते है |

प्रेरित रहे :-

प्रेरणा आपके अंदर किसी काम को पूरा करने के लिए जरूरी जोश भर देती है, लेकिन ये हमेशा ऐसे समय पर नहीं मिलती, जब आपको इसकी जरूरत हो। अगर आप किसी काम को शुरू करने या पूरा करने में परेशानी का सामना कर रहे हैं, तो फिर आगे बढ़ते रहने के लिए खुद को थोड़ी सी प्रेरणा देने की कोशिश करें।

बहुत थोड़ा सा दबाव भी मदद कर सकता है, इसलिए अपने किसी फ्रेंड, फैमिली मेम्बर या फिर ग्रुप से आपकी प्रोग्रेस के ऊपर ध्यान रखने को कहें। अगर आप लॉन्ग-टर्म प्लान्स (long term plan) को हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं, तो सुनिश्चित कर लें कि आपने कुछ स्पष्ट लक्ष्यों को बनाकर रखा है, ताकि आप पूरी प्रक्रिया के दौरान अपनी प्रेरणा को बनाए रह सकें।

निष्कर्ष :-

स्वयं का विकास जिंदगी की जरूरत है, हमेशा समय का महत्त्व समझे आगे बड़े और अपने भूत से प्रेरणा ले | ऊपर दिए गए कुछ बिन्दुओ से आपको मदद मिलेगी अपने आप को निखारने की परखने की |


अपनी राय पोस्ट करें

न्यूनतम 500/500 शब्दों