सुबह जल्दी उठने के 8 फायदे

सुबह जल्दी उठने के 8 फायदे

  

सुबह की नींद किसे प्यारी नहीं होती ? सुबह की नींद का मजा ही कुछ और होता है। खिड़की से आती ताजा ठंडी हवाएं और शांति , मानो हमें सोते रहने को कहती हैं और इस वातावरण में हमारा मन चादर ओढ़ कर चैन की नींद लेने का करता है ।

यदि हम सुबह उठना चाह रहे हो, या फिर हमारे कोई जरूरी काम हो, तब भी हम देर तक सोना ही पसंद करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यदि आप देर तक सोने के विचार को त्याग कर कोशिश करें और सुबह जल्दी उठे तो इससे आपको एक नहीं बल्कि अनेक फायदे मिलेंगे!

मित्रों, हमारे बड़े - बुजुर्ग हमेशा सुबह जल्दी उठने की सलाह देते हैं। वह हमें सुबह उठकर सैर करने, व्यायाम एवं ध्यान करने को कहते हैं। क्या आपने सोचा है कि सभी सुबह जल्दी उठने की बात पर इतना जोर क्यों देते हैं ? ऐसा इसीलिए क्योंकि सुबह जल्दी उठना हमारे लिए बहुत फायदेमंद है।

इसमें कोई दो राय नहीं है कि सुबह का समय दिन का सबसे सुंदर और अद्भुत समय होता है। इस समय वातावरण में एक ऐसी दिव्यता होती है जो मन को सुख एवं शांति प्रदान करती है।

सुबह का उगता सुंदर सूरज, पक्षियों का घोसलों से निकलना और मधुर कलरव, ताजा हवा, घास पर गिरी निर्मल ओस की बूंदे, यह सब सुबह को दिन का सबसे सुंदर वक़्त बना देती हैं।

सुबह का समय केवल देखने में ही सुंदर नहीं होता है, बल्कि इस समय की कई सारी खासियतें हैं। यदि रोज सुबह जल्दी उठा जाए, तो मन, मस्तिष्क व शरीर, सभी स्वस्थ रहते हैं।

मित्रों, सुबह के समय का वातावरण हमारे जीवन पर बेहतरीन सकारात्मक प्रभाव डालता है। इससे व्यक्ति का शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य दोनों अच्छा होता है।

यही नहीं, सुबह जल्दी उठने से और भी अनेक फायदे हैं या फिर यह कहे कि अनगिनत फायदे हैं। आज के लेख में हम इसी बात की चर्चा करेंगे कि सुबह उठना हमारे लिए कितना फायदेमंद साबित हो सकता है। आइये एक एक कर सभी लाभों की चर्चा करें :

1 ) बेहतर मानसिक स्वास्थ्य :

जल्दी उठने की आदत आपको मानसिक रूप से तंदुरुस्त करने में बहुत कारगर साबित हो सकती है। किसी भी प्रकार की मानसिक यातना, मानसिक असंतुलन या अवसाद से ग्रसित लोगों के लिए सुबह का समय प्राकृतिक उपचार की तरह काम करता है। यह एक ऐसा उपचार है जो प्रतिदिन आपको मिलता है, वह भी मुफ्त में।

सुबह के समय वातावरण बिल्कुल शांत और निर्मल रहता है। ऐसे में अवसाद से पीड़ित व्यक्ति को मानसिक रूप से किसी उपद्रव का सामना नहीं करना पड़ता है।

सुबह की स्वच्छ ताज़ा हवा, खुला आसमान, सूर्य उदय , वनस्पति, पक्षियों का मधुर कलरव, शांति और सुंदरता व्यक्ति के मन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करता है।

अंधकार से रोशनी का निकलना, पक्षियों का भोजन की तलाश में अपने घोसले को छोड़ कर बाहर उड़ान भरना, दिनचर्या का पुनः शुरू होना, एवं सूरज का निकलना, यह सब प्रक्रियाएं जीवन के सृजन एवं जीवन की नई शुरुआत के विचार को विकसित करते हैं।

यह सब चीजें अवसाद से पीड़ित व्यक्ति को सकारात्मक बनने के लिए प्रेरित करता है और उन्हें जीवन की ओर जाने की आशा देता है। इस प्रकार रोज सुबह उठकर प्रकृति के साथ वक्त बिताने से धीरे-धीरे आप नकारात्मकता से सकारात्मकता, दुख से सुख एवं विनाश से विकास की ओर बढ़ने लगेंगे और आपका मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होने लगता है।

2 ) खुद के लिए वक्त :

यूं तो सुबह जल्दी उठने के हजारों फायदे हैं, उनमें से एक फायदा है अपने लिए समय निकाल पाना। मित्रों, जब आप सुबह जल्दी उठते हैं तब आपके पास दिनचर्या शुरू होने से पहले कुछ घंटे होते हैं। इन घंटों को आप खुद को दे सकते हैं।

21वीं सदी का यह जीवन बहुत फास्ट हो गया है। प्रगति और विकास की दौड़ इतनी तेज़ है कि हम सभी इस दौर में भाग रहे हैं। परिणाम यह है कि इस रेस में आगे निकलने की होड़ में हम सभी इतने व्यस्त हो गए हैं कि हमारे पास अपने लिए वक्त ही नहीं बचा है।

आजकल हर व्यक्ति अपने जीवन में बहुत व्यस्त है। घर, परिवार, दफ्तर इत्यादि की जिम्मेदारियाँ उठाते उठाते ही पूरा दिन निकल जाया करता है। सुबह से शाम तक कभी यह काम, तो कभी वह काम लगे रहते हैं। परिणाम स्वरूप हमारे पास खुद के लिए समय कभी नहीं बच पाता।

इस स्थिति में जल्दी उठना आपके लिए मील का पत्थर साबित हो सकता है। सुबह जल्दी उठने से आपके पास एक या दो घंटे होंगे जिस समय को आप खुद के लिए निकाल सकते हैं। सुबह अपने जीवन की आगे की योजनाओं के बारे में सोचें, व्यायाम या सैर करें, उन कामों को निपटाएं जो आप दिन भर में नहीं कर पाएँ।

यदि आप कोई नया कौशल सीखने की इच्छा रखते हों तो यह समय आपके लिए बहुत अच्छा साबित हो सकता है। इस तरह आप अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के साथ-साथ खुद को भी विशेष समय दे पाएंगे।

3 ) बेहतर एकाग्रता :

मित्रों, अक्सर कई लोगों की यह शिकायत होती है कि वह फोकस नहीं कर पाते। यदि आप में भी एकाग्रता की कमी है तो सुबह जल्दी उठना आपको इस दिक्कत से मुक्त करा सकता है। सुबह जल्दी उठने से आपकी दिमागी सेहत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

सुबह के शांत और स्वच्छ वातावरण में मस्तिष्क की कोशिकाएँ सक्रिय होते हैं। शरीर में स्वच्छ हवा के संचार से मस्तिष्क अधिक उत्पादकता के साथ काम करता है।

जिस प्रकार सुबह की ताजी हवा से आपका मन तरोताज़ा हो जाता है उसी प्रकार सुबह के समय मस्तिष्क भी अधिक सक्रियता से काम करता है। इस प्रकार आप सुबह के समय उन कामों को कर सकते हैं जिनमें आपको एकाग्रता की कमी नजर आती है। इसके अलावा सुबह के समय ध्यान करने से भी आपकी एकाग्रता बहुत बेहतरीन हो सकती है।

4 ) शांति :

क्या आप भी उनमें से हैं जो किसी ऐसी जगह जाना बहुत पसंद करते हैं जहां शांति और सुकून मिले?

आप में से कई ऐसे होंगे जो ऐसी जगह जाना बहुत पसंद करते होंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि हम जिस परिवेश में रहते हैं, वहां से शांति बिल्कुल गायब सी हो गई है।

हर वक्त हमारे आसपास इतना शोर होता रहता है कि हमें एक पल भी शांति नहीं मिल पाती है। फैक्ट्रियों में चलती मशीनों की आवाज, गाड़ियों के हॉर्न से आती तेज आवाज, हर कुछ दिन पर शादी त्योहार के बहाने बजते तेज लाउडस्पीकर, लोगों द्वारा बाजार में उत्पन्न शोर, इन सबके बीच मन विचलित और अशांत हो जाता है।

इस शोर से केवल मानसिक ही नहीं, बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य को भी बहुत हानि पहुंचती है। अब सवाल उठता है कि शांति मिले कैसे ?

शांति पाने के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है। बस सुबह - सवेरे उठकर देखिए। अपने बगीचे, छत, या बालकनी में सैर करें। आप किसी पार्क में भी जा सकते हैं।

सुबह के समय न ही गाड़ियों का शोर होता है, ना ही मशीनों की आवाज होती है। पूरा माहौल शांतिपूर्ण होता है। इस तरह आप सुबह के समय अपार शांति का अनुभव कर अपने मन को शांत और प्रसन्न कर सकते हैं।

5 ) प्राकृतिक विटामिन डी :

सुबह जल्दी उठकर आप अपनी हड्डियों को मजबूत कर सकते हैं। जी हां ! यह शत प्रतिशत सत्य है। यदि आपके शरीर में भी विटामिन डी की कमी है तो सुबह की यह धूप आपके लिए उत्तम दवा साबित हो सकती है।

सुबह-सुबह सूरज की रोशनी प्राकृतिक विटामिन डी का बेहतरीन स्रोत होती है जो ना सिर्फ आपकी हड्डियों को मजबूत करता है, बल्कि इसके साथ ही आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतरीन बनाता है।

सुबह की धूप से आपकी हड्डियां, दांत मजबूत होते हैं, आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिसके कारण आप विभिन्न रोगों से बेहतर रूप से लड़ पाते पाते हैं । साथ ही त्वचा के कीटाणुओं को समाप्त कर सूरज की किरनें संक्रमण को खत्म करती है। अर्थात सुबह की धूप त्वचा से संबंधित सभी विकारों को ठीक करने में फायदेमंद है ।

यह जठराग्नि को और अधिक सक्रिय करती है और सूरज की गर्मी से सिकुड़ गयी नारियां खुलती है जिससे उनमें बेहतर रक्त का संचार होता है। बेहतर रक्त का संचार आपको कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर, हृदय की तमाम बीमारियों से बचाता है।

केवल इतना ही नहीं, सुबह सूर्य की रोशनी में स्नान करने से टीबी और कैंसर जैसी समस्याओं में भी बहुत लाभ मिलता है। इसके लिए दिन के किसी और समय से अधिक सुबह की धूप ही फायदेमंद होती है । इसीलिए सुबह उठकर उगते हुए सूर्य की रोशनी में अधिक से अधिक अंगों को रोशनी के संपर्क में लाकर कम से कम 5 से 10 मिनट बिताएं।

6 ) निश्चित दिनचर्या का पालन :

मित्रों, एक निश्चित दिनचर्या कितनी जरूरी है यह बात आप सभी जरुर जानते होंगे। निश्चित दिनचर्या का पालन करने वाले लोग अधिक उत्पादक, सफल, स्वस्थ व समृद्ध होते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि दिनचर्या का हमारे जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है।

ऐसे में पूरे दिन की दिनचर्या तब ही ठीक चलती है जब इसकी शुरुआत ठीक समय पर हो। और ऐसा करने के लिए सुबह जल्दी उठना अत्यंत आवश्यक है। सुबह जल्दी उठने से आपकी दिनचर्या सही तरीके से चलती है अर्थात आप अपने सभी कामों को निश्चित समय पर निपटा पाते हैं।

दूसरी तरफ देर तक सोते रहने से दिनचर्या पूरी तरह गड़बड़ हो जाती है। उदाहरण स्वरूप यदि आपने सुबह 7:00 बजे के लिए कोई काम तय किया हो लेकिन आप सुबह काफी देर से उठे, तो 7:00 बजे के काम आप 8:00 या 9:00 बजे करेंगे और इस तरह 9:00 बजे के काम अपने तय समय से विलंबित हो जाएंगे।

ऐसा करने से हर कार्य के लिए आपका निर्धारित समय पूरी तरह गड़बड़ हो जाएगा और इस अनिश्चित दिनचर्या से आप अपने दिन के लक्ष्यों को पूरा नहीं कर पाएंगे। परिणाम यह होगा कि वह सभी काम अगले दिन पर टाल दिए जाएंगे और अगले दिन आप पर अत्यधिक कार्यभार होगा।

ऐसा कई दिनों तक लगातार चलने से आपके जीवन में अव्यवस्था एवं अनिश्चितता बढ़ेगी। इसलिए सुबह जल्दी उठना आपके लिए बहुत लाभकारी सिद्ध होता है क्योंकि इससे आपकी दिनचर्या नियमित रूप से बनी रहती है।

7 ) दिन भर ताजगी :

मित्रों आपने देखा होगा कि जिस दिन आप सुबह जल्दी उठ जाते हैं उस दिन आप दिनभर तरोताजा महसूस करते हैं। वहीं यदि आप देर तक सोते रहते हैं तो दिन पूरे दिन आलस्य आता रहता है और मन भारी भारी सा लगता रहता है।

सुबह उठकर दोबारा देर तक सोते रहने से पूरे दिन उबासियां ही आती रहती हैं। तरोताजा और हल्का न महसूस करने से काम करने में मन नहीं लगता और उत्पादकता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसीलिए सुबह उठना उत्पादकता बढ़ाने में ना सिर्फ फायदेमंद है, बल्कि जरूरी है।

8 ) सुबह का व्यायाम वरदान से कम नहीं :

मित्रों, व्यायाम से होने वाले फायदों के बारे में तो आप सभी जानते होंगे। पर क्या आप यह जानते हैं कि व्यायाम दिन के किस समय में सबसे अधिक प्रभावशाली होता है?

सुबह का व्यायाम आपको सबसे अधिक फायदे दे सकता है। सुबह की हवा बिल्कुल स्वच्छ होती है क्योंकि इस समय वायुमंडल में सबसे कम प्रदूषण होता है। ऐसे में जब आप व्यायाम अथवा प्राणायाम करने के क्रम में श्वास बाहर और अंदर छोड़ते हैं, तब सुबह की स्वच्छ हवा आपके शरीर में जाकर स्वच्छ औक्सिजन प्राप्त कराती है।

इसीलिए सुबह का समय व्यायाम करने के लिए सर्वोत्तम है। रोज सुबह जल्दी उठकर या तो सैर पर निकल जाए, या तो व्यायाम करें। इससे आपका मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य बेहतरीन होगा।

निष्कर्ष :

हाँ तो मित्रों यह थे वह फायदे जिनका आप सुबह उठ कर लाभ उठा सकते हैं। चाहे बात आपको मानसिक रूप से शांत करने की हो, या फिर शारीरिक रूप से स्वस्थ करने की, सुबह का समय हर तरह से उत्तम है।

इसलिए सुबह के समय चाहे आपका सोने का कितना ही मन क्यों न करे, आप अपने मन को समझाएँ और सुबह के समय अपनी दिनचर्या शुरू कर अनगिनत लाभ उठाएं। आपने यह कहावत तो सुनी ही होगी,

जो सोया, वो खोया!

जी हाँ मित्रों, इस कहावत में गहरा अर्थ निहित है क्योंकि सोते रहने से आप सुबह उठने के सभी लाभों से वंचित रह जाएंगे। इसीलिए समय नष्ट करना छोड़ें और आज से ही सुबह जल्दी उठने का दृढ़ निश्चय करें। आशा है कि आपको यह लेख बहुत पसंद आया होगा और इसके साथ यह आपके लिए लाभ दायक भी सिद्ध होगा।

यदि आपके मन में इस लेख से जुड़े कुछ सुझाव या राय हों, तो अपनी राय हमारे साथ साझा करना न भूलें। सुबह जल्दी उठना आपके लिए कितना फायदेमंद साबित हुआ है, आप यह भी पोस्ट कर के हमारे साथ साझा कर सकते हैं।


अपनी राय पोस्ट करें

न्यूनतम 500/500 शब्दों