Pallavi Thakur
356 pts
Creative
Premium

अपने मन के भावों को काग़ज़ पर उकेर कर संजो लीजिए!

नमस्कार! मैं आकाशवाणी की युवा कलाकार हूँ। लेखन एवं हिंदी भाषा में मेरा अत्यधिक रुझान है। इस रुचि को एक ब्लॉगर के रूप में साकार करने के की कोशिश है।

अत्यधिक सोचनें की आदत से कैसे छुटकारा पाएँ.jpg

कई बार ऐसा होता है कि कुछ चीजों या घटनाओं को लेकर हम इतना अधिक चिंतन मनन करने लगते हैं, कि वह विचार हमें परेशान करने लग जाते हैं। कभी कभार ऐसा होना कोई बड़ी बात नहीं है, किंतु यदि आप हर छोटी-बड़ी घटनाओं पर देर तक सोचनें लगे, तो यह आपके लिए समस्या बन जाएगी।

कुछ लोग तो इस आदत से इस तरह प्रभावित होते हैं, कि छोटी से छोटी चीज़ करने से पहले अनावश्यक ही हजारों बार सोचते हैं, और कुछ कर देने के बाद भी उस पर घंटों तक विचार करते रह जाते हैं। इस तरह अति अधिक सोचने से न जाने कौन-कौन से विचार मन में आने लगते हैं, और व्यक्ति पूरी तरह व्याकुल हो जाता है। साथ ही, आपका आत्मविश्वास भी धीरे-धीरे कम होने लगता है, क्योंकि आप हर कार्य को लेकर संशय में रहने लग जाते हैं।

इस आदत को छोड़ देना ही बेहतर होगा। लेकिन लोग ऐसा नहीं कर पाते। वे अपने ही विचारों में उलझ कर रह जाते हैं। इसीलिए हम आपके लिए कुछ ऐसे बिंदु लेकर आए हैं, जिन पर गौर करने पर आप अपनी इस आदत से छुटकारा पा सकते हैं :

खुद को व्यस्त करें

कहते हैं ना! खाली दिमाग शैतान का घर होता है। यह कहावत बिल्कुल सही है। जब हम खाली बैठे हो, तब ही नई - पुरानी घटनाओं के बारे में सोचने लगते हैं। जब करने के लिए कुछ ना हो, तो मानो मन में विचारों की बाढ़ सी आ जाती है। अतः खुद को किसी न किसी कार्य में व्यस्त करके रखें ताकि आपके पास अधिक सोचने का समय ही ना बचे । खुद को व्यस्त करने के लिए आप किताबे पढ़ सकते हैं, कोई नया कौशल सीख सकते हैं, कोई खेल खेल सकते हैं, अथवा घर के कामों में हाथ बढ़ा सकते हैं। यह सब करने से आपका ध्यान बटा रहेगा और आप अत्यधिक सोच कर परेशान नहीं होंगे।

आत्मविश्वास

दोस्तों हम किसी भी चीज पर अधिक चिंतन- मनन तब करते हैं, जब हम अपने द्वारा की गई कार्रवाई यों पर संशय में रहते हैं। यह आत्मविश्वास की कमी के कारण होता है। इसलिए आज से ही आपको अपने आत्मविश्वास को बढ़ाने की दिशा में प्रयास करना है। आपने जो किया, जो हुआ, और जो होने वाला है, उस पर विश्वास रखें। जो भी करें उसे यह सोचकर करें कि आपके द्वारा की गई कार्रवाई सोच समझकर की जा रही है।

Posts

Opinions

No record found.

My Topic

My Group

0 comment

No Comments Yet